Mai ki dhuri

इस जग की व्याख्या केवल मैं तक ही है
यहाँ कुछ भी स्वार्थहीन कैसे हो सकता है
जहाँ अभिप्रेरण ही मैं से शुरू हो;
“खुद से प्यार करो”,
“आप जैसे हैं, खुद को वैसा ही स्वीकार करें”
जैसे उद्धरणों का सहारा लेकर ही
प्रेरित किया जाता हो
अर्थात
स्वयं में परिवर्तन की,
स्वयं में सुधार की,
ईश्वर के प्यार की,
मानव के कल्याण की,
कोई अपील नहीं

यहाँ कुछ भी मुक्त कैसे हो सकता है
जहाँ सब, मैं, मेरा और मुझे पर ही टिका हो
“मैं बस कुछ बन जाऊं”,
“मेरा बस ये काम हो जाये”,
“मुझे बस ये चाहिए”,
निरंतर अनेको संकल्प हो
अर्थात
सत्य के ज्ञान की,
ज्ञान के प्रकाश की,
प्रभु चरण में ध्यान की
मुक्ति के मार्ग की
कोई होड़ नहीं

यहाँ सब कुछ केवल मैं के ही इर्द-गिर्द है
अपने मैं की संतुष्टि के लिए
जाने ये दुनिया क्या क्या नहीं करती
आख़िर कितनी लम्बी है ये, “मैं” की धुरी
जो 84 लाख योनियां घूमने पर भी
तय नहीं होती

8 Comments

  1. Monidipa December 4, 2023 at 12:44 am - Reply

    Beautiful

  2. Anjali Tripathi December 11, 2023 at 12:29 am - Reply

    इस अद्वितीय साहित्य से साझा करने के लिए धन्यवाद! बहुत गहरा और सोचने पे मजबूर करने वालीं कविता है। बहुत गहराई है इस कविता मेंI

  3. RANJEETA NATH GHAI December 11, 2023 at 3:07 pm - Reply

    People are so possessed with I, me, myself that they confuse self-love with selfishness. They are so wrapped up in it that it is their undoing.

  4. Sejuti Majumdar December 11, 2023 at 5:02 pm - Reply

    This is a beautiful poem that talks about self loving, confidence and ultimately connecting with God. I love the point meditation at god’s feet highlighted here….

  5. Humaira December 12, 2023 at 1:24 pm - Reply

    Every single line of the poem is written beautifully. Your choice of words is a perfect example of perfection.This poem is so captivating and unique. Thanks for sharing, I have not read something as good as this in a while.

    • Krishna Sreekumar December 12, 2023 at 2:14 pm - Reply

      Wow. Great poem.. The lines are beautifully arranged.. 👏👏thankyou for sharing this poem. This is on of the great poems I hav read yet 👏👏

  6. Akshi Sharma December 12, 2023 at 1:40 pm - Reply

    “Your profound reflections on self-love and spiritual growth resonate deeply. The emphasis on inner transformation, acceptance, and divine connection is beautifully conveyed. Inspiring insights for a meaningful journey.”

  7. Kriti December 12, 2023 at 4:26 pm - Reply

    This is another one of your amazing poems I would suggest please compile them in a book and self publish
    You have a way with emoting

Leave A Comment