“मैं” की धुरी

इस जग की व्याख्या केवल मैं तक ही हैयहाँ कुछ